Sindhav Milan
  • 24, Male
  • Bhupgadh, Rajkot (Gujrat)
  • India
Share on Facebook Share on Facebook Share
  • Blog Posts
  • Events
  • Groups (2)
  • Photos
  • Photo Albums
  • Videos

Sindhav Milan's Parivar

  • ashwin. s. chokshi
  • MILAN KUMAR VINUBHAI ANKOLIYA
  • RAMESH  M  SOLANKI
  • prakash gabani
  • jignesh fatepara
  • hardik ramani
  • Ajendra Brahmbhatt
  • chintan patel
  • Atul Chandrasen Gandhi
  • Patel Pragnesh Natvarlal
  • Gohel Manojbhai J.
  • Shyam Patel
  • vijay m desai
  • Nilesh poriya
  • sardhar mandir
 

Sindhav Milan's Page

Latest Activity

ashwin. s. chokshi left a comment for Sindhav Milan
"http://gopinathji.com/galerry/wallpaper/04.jpg Remember your life is sacred. You are born with the divine purpose. We are not here for eating, sleeping, doing the routine things and dying !Asuu http://gopinathji.com/galerry/wallpaper/07.jpg A place…"
Jun 12, 2013
ashwin. s. chokshi left a comment for Sindhav Milan
"एक आदमी जंगल से गुजर रहा था । उसे चार स्त्रियां मिली । उसने पहली से पूछा - बहन तुम्हारा नाम क्या हैं ? उसने कहा "बुद्धि " तुम कहां रहती हो? मनुष्य के दिमाग में। दूसरी स्त्री से पूछा - बहन तुम्हारा नाम क्या हैं ? " लज्जा "। तुम…"
Jun 10, 2013
ashwin. s. chokshi left a comment for Sindhav Milan
"सुख-वरण प्रभु, नारायण, हे दु:ख-हरण प्रभु, नारायण, , मन वाणी में वो शक्ति कहाँ, जो महिमा तुम्हरी गान करें, अगम अगोचर अविकारी, निर्लेप हो, हर शक्ति से परे, हम और तो कुछ भी जाने ना, हम तो केवल गाते हैं आदि मध्य और अन्त तुम्ही, और तुम ही आत्म अधारे हो,…"
May 13, 2013

Comment Wall (3 comments)

At 10:34pm on May 13, 2013, ashwin. s. chokshi said…

सुख-वरण प्रभु, नारायण, हे दु:ख-हरण प्रभु, नारायण, , मन वाणी में वो शक्ति कहाँ, जो महिमा तुम्हरी गान करें, अगम अगोचर अविकारी, निर्लेप हो, हर शक्ति से परे, हम और तो कुछ भी जाने ना, हम तो केवल गाते हैं आदि मध्य और अन्त तुम्ही, और तुम ही आत्म अधारे हो, भगतों के तुम प्राण, प्रभु, इस जीवन के रखवारे हो, तुम में जीवें, जनमें तुम में, और अन्त करें तुम में विश्राम, स्वीकारो ...चरन कमल का ध्यान धरूँ, और प्राण करें सुमिरन तेरा, दीनाश्रय, दीनानाथ, प्रभु, भव बंधन काटो हरि मेरा, शरणागत के घनश्याम हरि, हे नाथ, मुझे तुम लेना थाम हरी ॐ भगवान् को प्रिय है हरिनाम ॥....... ♥♥..... भगवत्प्रेममें मस्त आशु 

At 10:34am on June 10, 2013, ashwin. s. chokshi said…

एक आदमी जंगल से गुजर रहा था । उसे चार
स्त्रियां मिली । उसने पहली से पूछा - बहन
तुम्हारा नाम क्या हैं ? उसने कहा "बुद्धि " तुम
कहां रहती हो? मनुष्य के दिमाग में।
दूसरी स्त्री से पूछा - बहन तुम्हारा नाम
क्या हैं ? " लज्जा "। तुम कहां रहती हो ? आंख
में । तीसरी से पूछा - तुम्हारा क्या नाम हैं ?
"हिम्मत" कहां रहती हो ? दिल में । चौथी से पूछा -
तुम्हारा नाम क्या हैं ? "तंदुरूस्ती"
कहां रहती हो ? पेट में।

वह आदमी अब थोडा आगे
बढा तों फिर उसे चार पुरूष मिले।

उसने पहले पुरूष से पूछा -

तुम्हारा नाम क्या हैं ? " क्रोध "
कहां रहतें हो ? दिमाग में, दिमाग में
तो बुद्धि रहती हैं, तुम कैसे रहते हो? जब मैं
वहां रहता हुं तो बुद्धि वहां से
विदा हो जाती हैं। दूसरे पुरूष से पूछा -
तुम्हारा नाम क्या हैं ? उसने कहां -" लोभ"।
कहां रहते हो? आंख में। आंख में
तो लज्जा रहती हैं तुम कैसे रहते हो। जब मैं
आता हूं तो लज्जा वहां से प्रस्थान कर
जाती हैं । तीसरें से पूछा - तुम्हारा नाम
क्या हैं ? जबाब मिला "भय"। कहां रहते हो? दिल
में तो हिम्मत रहती हैं तुम कैसे रहते हो? जब मैं
आता हूं तो हिम्मत वहां से नौ दो ग्यारह
हो जाती हैं। चौथे से पूछा - तुम्हारा नाम
क्या हैं ? उसने कहा - "रोग"। कहां रहतें हो? पेट
में। पेट में तो तंदरूस्ती रहती हैं, जब मैं
आता हूं तो तंदरूस्ती वहां से रवाना हो जाती हैं।

जीवन की हर विपरीत परिस्थिती में

यदि हम उपरोक्त वर्णित बातो को याद
रखे तो कई चीजे टाली जा सकती हैं

♥.... जय स्वामिनारायण ....♥
♥♥.....प्यारे श्रीहरी ये दिल दीवाना तेरा हैं.... ♥♥
♥♥........हरी ॐ भगवान् को प्रिय है

At 1:03pm on June 12, 2013, ashwin. s. chokshi said…

http://gopinathji.com/galerry/wallpaper/04.jpg

Remember your life is sacred.

You are born with the divine purpose.
We are not here for eating,

sleeping, doing the

routine things and dying !Asuu

http://gopinathji.com/galerry/wallpaper/07.jpg

A place is only as good

as our thoughts about it.

A job is only as good

as our thoughts about it.

A relationship is only as good

as our thoughts about it.....Asuu

http://gopinathji.com/galerry/wallpaper/09.jpg

श्रीहरी लेना खबर हमारी आशु के हरी ।
बेमौत मर गया हूँ दुनिया से कर के यारी ॥
द्वारे तुम्हारे आया, दर्शन की आस लाया ।
श्रीहरी दर्शन दे दो, हूँ दर्श का अभिलाषी ॥
श्रीहरी अपना लिया हैं तुमको,

ठुकरा ना देना हमको ।

♥♥.....भगवत्प्रेममें मस्त आशु.... ♥♥

http://gopinathji.com/mobile/wallpaper/016.gif

હે પ્રભુ ગાઢ ધુમ્મસપટની પેલે પાર તું હોઈ શકે,
રંગ રેખા કે નહીં આકાર તું હોઈ શકે.
કોઈ મારા બારણે જાસાચિઠ્ઠી નાખી ગયું,
અક્ષર તો ક્યાંથી ઉકલે લખનાર તું હોઈ શકે.
રાગ પારિજાત લ્હેરાતો રહ્યો છે રાતભર,
ક્યાંક નજદીક બેસીને ગાનાર તું હોઈ શકે.
આટલાં વ્હાલાં મને લાગ્યાં નથી પૂર્વે કદી,
આ અભાવો,પીડા મોકલનાર

હે પ્રભુ તું હોઈ શકે....આશુ

http://gopinathji.com/mobile/wallpaper/032.gif

Shrihari ask to us,
What did U gain by

Prayer & Meditation?
He replied-
Nothing, But U Lost Anger,

Depression, Jealousy,

Irritation, Insecurity & Fear.....Asuu

http://gopinathji.com/mobile/wallpaper/044.gif

Doing as others told me,

I was Blind.

I was Lost.then I left everyone,

When I found Everyone, Myself as well......Asuu

Life is like a plate of noodles.

Looks so twisted and complicated,

until we decide to dive in

and enjoy it one bite at a time.....Asuu

http://gopinathji.com/mobile/wallpaper/043.gif

♥.... जय स्वामिनारायण ....♥
♥♥.....प्यारे श्रीहरी ये दिल दीवाना तेरा हैं.... ♥♥
♥♥........हरी ॐ भगवान् को प्रिय है हरिनाम .... ♥♥
♥♥.....भगवत्प्रेममें मस्त आशु.... ♥♥

You need to be a member of Gopinathji.com to add comments!

Join Gopinathji.com

 
 
 

© 2017   Created by webmaster.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service